ग्वालियर। मध्‍यप्रदेश की खेल और युवा कल्‍याण मंत्री यशोधरा राजे के एक सवाल ने भाजपा को मुश्किल में डाल दिया है। नई और पुरानी भाजपा से जुडे इस सवाल ने पार्टी के उन कई नेताओं के दर्द को फिर से उभार दिया है जो ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया के सदल-बल भाजपा में आने के बाद से अपनी उपेक्षा सहने को मजबूर हैं।  

दरअसल हुआ यूं कि रविवार को शिवपुरी में आयोजित एक कार्यक्रम में भाग लेने के लिए मुख्‍यमंत्री शिवराजसिंह चौहान भोपाल से विमान द्वारा पहले ग्‍वालियर पहुंचे। वहां से उन्‍हें केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया एवं यशोधरा राजे सिंधिया को साथ लेकर हेलीकॉप्टर से  शिवपुरी जाना था। ज्योतिरादित्य सिंधिया थोड़ी देर पहले ही विमानतल पर पहुंच गए थे। उनका स्वागत करने पहुंचे उनके समर्थक विमानतल पर मौजूद थे इसी बीच यशोधरा राजे सिंधिया अपने वाहन से वहां आईं। कार से उतरने पर उनका आमना सामना ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया समर्थकों से हुआ और वे नेता यशोधरा का भी स्वागत करने लगे। इस पर यशोधरा राजे सिंधिया ने चुटकी ली कि ‘अरे कोई मूल भाजपाई नहीं दिख रहा।‘

अचानक उछले इस सवाल ने ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया समर्थकों की बोलती बंद कर दी। यशोधरा यहीं नहीं रुकीं, इसी बीच एक महिला नेत्री कमलेश कौरव ने जैसे ही यशोधरा को ‘बुआजी’ कहकर संबोधित किया, तो वे भडक गईं। बोलीं- ‘’क्या ज्योतिरादित्य सिंधिया को भी उनके नाम से बुलाते हो, उन्हें महाराज कहते हो तो हम भी महाराज साहब हैं।‘’ यशोधरा राजे के इस रुख पर सिंधिया समर्थक चुप्‍पी साध गए।

दरअसल ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया को उनके समर्थक श्रीमंत या महाराज कह कर संबोधित करते हैं। यशोधरा राजे भी अपने नाम के श्रीमंत अथवा महाराज साहब लगाने की बात कहती रही हैं। ग्‍वालियर विमानतल पर हुई इस घटना का वीडियो रविवार को सोशल मीडिया पर बहुत वायरल हुआ। भाजपा और कांग्रेस दोनों पार्टियों में इसकी काफी चर्चा रही। भाजपा के नेता यह भी कहते सुने गए कि यशोधरा राजे ने सवाल तो सही उठाया है।