राकेश दुबे

देश में 23 प्रकार के अनाज, दलहन, तिलहन आदि फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य तय होते हैं, उसी तरह से भारत सरकार गन्ने के लिए एक गारंटीकृत मूल्य की घोषणा करती रही है जिसे 2008-09 तक वैधानिक न्यूनतम मूल्य कहा जाता था। वर्ष 2009-10 से, इसे रंगराजन समिति की सिफारिश के अनुसार उचित और लाभकारी मूल्य कहा जाता है, जिसमें गन्ने की उत्पादन लागत के साथ-साथ चीनी मिलों द्वारा वसूल की गई चीनी की कीमत को भी ध्यान में रखा गया है।

सिफारिश के अनुसार, पिछले वर्ष की कीमत का 70 प्रतिशत किसानों को भुगतान किया जाना चाहिए। 30 प्रतिशत मिल मालिकों द्वारा रखा जाता है। इसके बावजूद, कुछ राज्य सरकारें गन्ने के लिए राज्य-अनुशंसित कीमतों की घोषणा करती हैं जो एफआरपी से अधिक होते हैं। ये चीनी मिलों पर बाध्यकारी हैं क्योंकि सुप्रीम कोर्ट ने मई 2004 में पहली बार राज्यों की घोषणा शक्ति को मान्य किया और 2019 में भी दोहराया था। इस दोहरे मापदंड का खमियाजा किसान को भोगना पड़ रहा है।

किसानों के गन्ना बकाया की समस्‍या बहुत पुरानी है क्योंकि मिलों ने भुगतान करने में असमर्थता जताई है। प्रत्येक 3-4 वर्षों के बाद, राज्य और केंद्र सरकारें किसानों को बकाया भुगतान करने के लिए बजट आवंटित कर रही हैं और चीनी मिलों के लिए सॉफ्ट बैंक ऋण की व्यवस्था कर रही हैं। जब बैंकों को 6000 करोड़ रुपये के आसान ऋण प्रदान करने का निर्देश मिला था तब चीनी का मिल गेट मूल्य लगभग स्थिर रहा। जबकि गन्ने की एसएपी बढ़ती जा रही है।

यही कारण है कि गन्ने और चीनी का उत्पादन बढ़ रहा है तथा मिलों में चीनी का स्टॉक बढ़ रहा है। चीनी मिलें समय-समय पर चीनी नियंत्रण आदेश 1966 में संशोधन के बावजूद बेचने और निर्यात करने में असमर्थ रही हैं क्योंकि देश में चीनी उत्पादन की लागत इसकी अंतर्राष्ट्रीय कीमतों से भी ज्यादा है। केंद्र सरकार ने मिलों की लाभप्रदता के लिए 2018 में चीनी के न्यूनतम बिक्री मूल्य की भी घोषणा की। इस प्रकार चीनी अर्थव्यवस्था की समस्या सरकार के लिए दोधारी तलवार की तरह है।

2009-10 से गन्ने के लिए एफआरपी लागू होने के बाद तमिलनाडु और कर्नाटक ने एसएपी में नियमित वृद्धि रोक दी है, लेकिन पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में किसानों की मांग के अनुसार एसएपीएस में बार-बार वृद्धि हुई है। कुछ राज्यों में गन्ने के निरंतर उच्च एसएपी के कारण उनके गन्ने के क्षेत्र में लगातार बढ़ोतरी हुई। इसके अलावा, उच्च एसएपी के कारण 2017-18 में लगभग 80 प्रतिशत गन्ने का उपयोग चीनी उत्पादन के लिए किया गया है जो 1975-76 में लगभग 30 प्रतिशत था।

एसएपी के अनुसार भुगतान भी कानूनी रूप से सुरक्षित हैं क्योंकि इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने एक बार यूपी सरकार को मिलों से सरकारी राजस्व के रूप में किसानों की बकाया राशि वसूल करने का आदेश दिया था। हाल के वर्षों में प्रति हेक्टेयर उपज में वृद्धि के परिणामस्वरूप घरेलू मांग की तुलना में अधिक चीनी का उत्पादन हुआ है। देश मे चीनी की उत्पादन लागत आम तौर पर अंतर्राष्ट्रीय कीमतों से अधिक होती है।

भारत सरकार को चीनी के निर्यात के लिए मिलों को सब्सिडी देनी पड़ती है। इसलिए, ब्राजील, ऑस्ट्रेलिया और ग्वाटेमाला जैसे कुछ प्रमुख चीनी उत्पादक देशों ने भारत में उच्च समग्र सहायता देने के खिलाफ डब्ल्यूटीओ समझौतों के तहत मामले दायर किए हैं। एसएपी के विकल्प के रूप में, भारत सरकार मिलों को गन्ने के एक हिस्से को इथेनॉल उत्पादन के लिए रखने के साथ ही पेट्रोल में इथेनॉल मिश्रण (2025 तक 20 प्रतिशत) को भी प्रेरित कर रही है।

कुछ राज्य एसएपी को वार्षिक रूप से संशोधित करने के लिए किसान संघों के दबाव का भी विरोध कर रहे हैं। इसके अलावा राज्य सरकारें चीनी मिलों को चीनी, इथेनॉल और अन्य उप-उत्पादों से अपने कुल लाभ का एक हिस्सा किसानों को वितरित करने का निर्देश दे सकते हैं। इस पूरे मामले में एक समान नीति की जरूरत है।(मध्यमत)
डिस्‍क्‍लेमर- ये लेखक के निजी विचार हैं। लेख में दी गई किसी भी जानकारी की सत्यता, सटीकता व तथ्यात्मकता के लिए लेखक स्वयं जवाबदेह है। इसके लिए मध्यमत किसी भी तरह से उत्तरदायी नहीं है। यदि लेख पर आपके कोई विचार हों या आपको आपत्ति हो तो हमें जरूर लिखें।-संपादक