दिल्ली/ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार को नई दिल्ली में आयोजित टेक्सटाइल राउण्ड टेबल कॉन्फ्रेंस में देश के प्रमुख उद्यमियों से मध्यप्रदेश में निवेश के संबंध में चर्चा की। उन्‍होंने प्रदेश में वस्‍त्र और परिधान क्षेत्र में निवेश की अच्‍छी संभावनाओं का उल्‍लेख करते हुए उद्यमियों को आगामी 11 और 12 जनवरी 2023 को इंदौर में आयोजित होने वाली ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट के लिए आमंत्रित किया।

बैठक में श्री चौहान ने बताया की मध्यप्रदेश में उद्योग अनुकूल वातावरण और संसाधन उपलब्‍ध हैं। देश की जीडीपी में प्रदेश का योगदान 3.6 से बढ़कर 4.6 प्रतिशत हो गया है। वर्तमान मूल्य पर इस वर्ष मध्यप्रदेश की विकास दर 19.76 फीसदी रही है जो देश में सर्वाधिक है।

उन्‍होंने कहा कि मध्‍यप्रदेश इन्वेस्टर फ्रेंडली है जहां औद्योगिक इकाइयां स्थापित करने की सभी आधारभूत सुविधाएं उपलब्ध हैं। यहां पर्याप्त लैंड बैंक है, यहां सातों दिन 24 घंटे बिजली उपलब्ध है। सिंगापुर की सहायता से ग्लोबल स्किल पार्क की स्थापना सहित कौशल विकास के विभिन्न कदम उठाए गए हैं। प्रदेश शांति का टापू है जहां सब ओर समरसता है। प्रदेश के औद्योगिक नीति एवं निवेश प्रोत्साहन मंत्री राजवर्धन सिंह ने कहा कि राज्य की औद्योगिक नीति ईज़ ऑफ़ डूइंग बिज़नेस को बढ़ावा देती है।

बैठक में उद्यमियों ने मध्यप्रदेश में भूमि आवंटन और मंजूरियों की गति, प्रशासन की त्वरित प्रतिक्रिया, उत्तम उद्योग अधोसंरचा जैसी सुविधाओं के लिए धन्यवाद देते हुए, व्यापार की सुगमता की प्रशंसा की। उन्‍होंने प्रदेश के उद्योग परिदृश्य में सुधार के सुझाव भी दिए।