-दोनों संस्‍थाओं के बीच हुआ एमओयू

भोपाल/ मानसरोवर ग्लोबल यूनिवर्सिटी ने अपने छात्रों के सर्वांगीण विकास और उन्‍हें बेहतर भविष्‍य उपलब्‍ध कराने की दृष्टि से सेंटर फॉर एंटरप्रेन्योरशिप डेवलपमेंट (सेडमेप) के साथ करार (एमओयू) किया है। इस करार का उद्देश्य छात्रों को उद्यमिता, इंटर्नशिप, प्रोजेक्ट्स, शैक्षिक एवं औद्योगिक भ्रमण एवं स्किल डेवलपमेंट के साथ-साथ सामाजिक भागीदारी, स्टार्टअप्स जैसे हर सेक्टर्स के लिए तैयार करना है।

विश्वस्तरीय संगठनों और संसाधनों के सहयोग से छात्रों को समाज और देश के विकास के लिए तैयार करने की दिशा में कार्यरत मानसरोवर विश्‍वविद्यालय ने, विगत तीन दशकों से उद्यमिता क्षेत्र में काम कर रही संस्था सेडमेप के साथ यह करार करके अपने छात्रों के सुनहरे भविष्‍य की ओर नया कदम बढाया है। इस अवसर पर मानसरोवर विश्‍वविद्यालय के वाइस चांसलर डॉक्टर अरुण कुमार पांडेय, कॅरियर डेवलपमेंट सेल के प्रमुख राहुल मालवीय और सेडमेप की एग्जीक्यूटिव  डायरेक्टर श्रीमती अनुराधा सिंघई मुख्य रूप से मौजूद थे।

विवि के वाइस चांसलर प्रोफेसर अरुण पांडेय ने इस एमओयू को बेहद महत्वपूर्ण बताया और कहा कि दोनों ही संस्थाएं छात्रों के उज्ज्वल भविष्य के लिए मिलकर काम करेंगी। सेडमेप की एग्जीक्यूटिव  डायरेक्टर श्रीमती अनुराधा सिंघई ने यूनिवर्सिटी के साथ जुड़ने पर हर्ष व्यक्त करते हुए कहा कि पहले से ही उद्यमिता के क्षेत्र में अग्रणी  मानसरोवर ग्लोबल यूनिवर्सिटी के साथ जुड़ना एक सार्थक कदम है।

विश्वविद्यालय की चांसलर श्रीमती मंजुला तिवारी ने इस करार को युवा वर्ग के लिए अतिमहत्वपूर्ण और ऐतिहासिक कदम बताया। विवि के प्रो-चांसलर इंजीनियर गौरव तिवारी ने इस प्रयास की सराहना करते हुए कहा कि यह एमओयू विद्यार्थियों के लिए रोज़गार प्राप्त करने और अपना व्यवसाय शुरू करने की दिशा में महत्‍वपूर्ण साबित होगा।