नई दिल्ली/भारतीय जन संचार संस्थान (आईआईएमसी) के शैक्षणिक सत्र 2022-23 का सोमवार को शुभारंभ करते हुए राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश ने कहा कि आजादी के पहले भारतीय पत्रकारिता के स्वर्णिम काल में पत्रकार ‘इन्वेस्टिगेटर’ के साथ-साथ ‘इन्वेस्टर’ भी थे। सीमित संसाधनों से उन्होंने पत्रकारिता के नए आयाम गढ़े। आज हम टेक्नोलॉजी और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के जरिये पत्रकारिता नया स्वर्णिम काल गढ़ सकते हैं।

इस अवसर पर केंद्रीय सूचना आयुक्त उदय माहुरकर, आईआईएमसी के महानिदेशक प्रो. संजय द्विवेदी, डीन (अकादमिक) प्रो. गोविंद सिंह, कार्यक्रम संयोजक एवं उर्दू पत्रकारिता विभाग के अध्यक्ष प्रो. प्रमोद कुमार सहित आईआईएमसी के सभी केंद्रों के संकाय सदस्य एवं विद्यार्थी उपस्थित थे।

‘अमृतकाल के संकल्प और मीडिया’ विषय पर अपने विचार व्यक्त करते हुए श्री हरिवंश ने कहा कि जो चीजें पहले सौ वर्षों में बदलती थीं, आज उसके लिए दो दिन का समय भी नहीं लगता। आज आप मामूली संसाधनों से मीडिया स्टार्टअप शुरू कर समाज में बदलाव ला सकते हैं। आजादी के सौवें वर्ष में भारत की क्या तस्वीर होगी, वो युवाओं के सपनों और संकल्पों से तय होगा।

उन्‍होंने कहा कि पत्रकारिता का दौर अब पूरी तरह बदल गया है। आपको चुनौतियों में से रास्ता निकालना है, लेकिन सबसे अच्छी बात यह है कि चुनौतियों के बीच आज युवाओं के पास अनंत अवसर हैं। आज प्रिंट, रेडियो और टीवी के अलावा डिजिटल मीडिया, विज्ञापन एवं जनसंपर्क, ऑडियो, पॉडकास्ट, मल्टीमीडिया, डाटा साइंस और मीडिया शिक्षण जैसे अनेक विकल्प मौजूद हैं।

सोशल मीडिया ने पत्रकारिता की साख का संकट खड़ा किया है। फेसबुक, ट्विटर आदि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर रोजाना लाखों फेक न्यूज परोसी जा रही हैं। हमें मिलकर इनका सामना करना होगा। मीडिया की विश्वसनीयता के बिना आप कुछ भी कर सकते हैं, लेकिन उसका कोई असर समाज पर नहीं होगा। तकनीक हमारे लिए वरदान के साथ सबक भी है। ये हम पर निर्भर करता है कि इसका कैसा उपयोग किया जाए।

भारत के पुनर्जागरण का काल : माहुरकर
केंद्रीय सूचना आयुक्त उदय माहुरकर ने कहा कि देश में डिजिटल क्रांति से विकास की नई तस्वीर सामने आई है। ये भारत के पुनर्जागरण का काल है। हम जहां एकतरफ ‘नेशन फर्स्ट’ की डिप्लोमेसी कर रहे हैं, वहीं भारत की ‘साफ्ट पावर’ ने पूरी दुनिया को चकित कर दिया है। लेकिन टीआरपी बेस्ड जर्नलिज्म मीडिया और समाज दोनों के लिए बहुत नुकसानदायक है।

संकटों का सामना करने में सक्षम हैं हिन्दुस्तानी : प्रो. द्विवेदी
नवागत विद्यार्थियों का मार्गदर्शन करते हुए आईआईएमसी के महानिदेशक प्रो. संजय द्विवेदी ने कहा कि आप सभी के लिए ये साधना और समर्पण का साल है। पिछले 75 वर्षों में हमने शानदार यात्रा की है। आने वाले 25 वर्षों में हमें भारत को विश्व गुरु के रूप में स्थापित करना है। इस विश्व में सिर्फ हिन्दुस्तानी ही हैं, जो हर स्थिति में समन्वय बैठा लेते हैं।

कार्यक्रम के दूसरे सत्र में ‘अमृतकाल : पंच प्रण और मीडिया’ विषय पर भारतीय सामाजिक विज्ञान अनुसंधान परिषद के अध्यक्ष डॉ. जे.के. बजाज, पेसिफिक विश्वविद्यालय के योजना एवं नियंत्रण के ग्रुप प्रेसिडेंट प्रो. भगवती प्रकाश शर्मा, जेएनयू के स्कूल ऑफ लैंग्वेज, लिटरेचर एंड कल्चर स्टडीज के डीन प्रो. मजहर आसिफ एवं ‘ऑर्गनाइजर’ के संपादक प्रफुल्ल केतकर ने विद्यार्थियों का मार्गदर्शन किया।

शुभारंभ समारोह के अंतिम सत्र में ‘मीडिया उद्यमिता और आत्मनिर्भर भारत का लक्ष्य’ विषय पर ‘न्यूज 24’ की प्रधान संपादक अनुराधा प्रसाद, बिजनेस वर्ल्ड के अध्यक्ष एवं प्रधान संपादक डॉ. अनुराग बत्रा, NEWJ के संस्थापक, सीईओ एवं प्रधान संपादक शलभ उपाध्याय एवं डीबीजी टेक्नोलॉजी (भारत) के कार्यकारी निदेशक डॉ. अभिषेक गर्ग ने हिस्सा लिया।

इस अवसर पर प्रो. अनुभूति यादव द्वारा संपादित पुस्तक ‘न्यू मीडिया जर्नलिज्म’ एवं प्रो. प्रमोद कुमार द्वारा लिखित पुस्तक ‘मीडियाकर्म : योग्यता और यथार्थ’ का भी विमोचन किया गया।