राकेश दुबे

कहते हैं मारक पशु बीमारी ‘लंपी’ देश से चली गई। इस बीमारी ने देश के उत्तर पश्चिम प्रदेशों की लाखों गाय व बैल लील लिए। गुजरात, राजस्थान, महाराष्ट्र, पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, उत्तरप्रदेश आदि में कुल मिलाकर लाखों दुधारू गायें मर चुकी है और जो बीमारी के बाद बच गईं वह भी दूध से सूख गई हैं। आंकड़ों के मुताबिक सबसे ज्यादा मृत्यु दर राजस्थान में थी परन्तु हरियाणा व पंजाब में भी बहुत बड़ी संख्या में गायें मरी हैं। हरियाणा में यमुनानगर, अंबाला, सिरसा, फतेहाबाद, भिवानी आदि में लंपी का सर्वाधिक कहर देखा गया। लंपी स्किन डिजीज (एलएसडी) गत वर्षों के दौरान पहले भी कहीं-कहीं आती रही परंतु इसका गंभीर संज्ञान पशुपालन विभाग ने कभी नहीं लिया। इस संबंध में हुई आर्थिक बदहाली के लिए क्या सरकार की जवाबदेही तय नहीं होनी चाहिए?

विडंबना है कि समय रहते इस बीमारी का संज्ञान लेकर इसे नियंत्रित करने के कदम उठाने में केंद्र व राज्य सरकारों ने अपनी विफलता को अभी तक स्वीकार नहीं किया है। यही नहीं बल्कि पीड़ित पशुपालकों को हुए नुकसान की पूर्ति की दिशा में सरकारी आर्थिक मदद दिए जाने का आज तक उल्लेख भी नहीं किया है। यह घोर संवेदनहीनता उसी ‘गौमाता’ के लिए है जिसका भरपूर दोहन करने वाली राजनीति आज सत्ता पर काबिज भी है।

सब जानते हैं, गांवों के छोटे-छोटे किसान और भूमिहीन परिवार भी एक या दो गाय पाल लेते हैं और दूध बेचकर अपनी आजीविका चलाते हैं। एकल महिला परिवार, भूमिहीन अनुसूचित जातियों या खेत मजदूर परिवारों में भी आम तौर पर गाय रखने की क्षमता है।

कोविड-19 की तरह लंपी त्वचा बीमारी का कारण भी वायरस ही है। बकरी व भेड़ को होने वाले चेचक से मिलता-जुलता वायरस ही है जिसे ‘कैप्रिपाक्स’ वायरस कहते हैं। इसके संक्रमण से गाय ज्यादा शिकार होती हैं परंतु कहीं-कहीं भैंसों पर भी मामूली प्रभाव देखा गया है। आम पशुपालकों में इसके बारे में न केवल अनभिज्ञता है, बल्कि तमाम तरह के अंधविश्वास और भ्रांतियां भी हैं। बहुत सारे लोगों ने डर के चलते पशुपालकों से दूध लेना बंद कर दिया। वे समझते हैं कि मनुष्यों को भी यह बीमारी लग सकती है, जो कि सत्य नहीं है। इस वायरस संक्रमण के उपचार की अभी कोई दवा नहीं है। बकरी व भेड़ पाक्स वैक्सीन का ही प्रयोग इस बार भी किया गया।

इतिहास के अनुसार यह बीमारी बीसवीं सदी के पूर्वार्द्ध में अफ्रीका में पाई गई थी और बाद में एशिया व मध्य एशिया तथा अन्य देशों में पहुंच गई। इसे लंपी इसलिए कहा जाता है कि इससे पूरे शरीर की त्वचा पर लंप यानी गांठ हो जाती हैं। बीमार पशु को बुखार, अत्यधिक लार, मुंह के भीतर भी लंप, भूख का अभाव, दूध घटना, गर्भपात होना इत्यादि इसके मुख्य लक्षण हैं। समय पर बचाव के जतन न होने से गंभीर दशा में पशु की मृत्यु हो जाती है।

लंपी का संक्रमण मच्छर, कीचड़, ततैया, सार्वजनिक तालाब, चारे पर गिरने वाली लार से फैलता है। एक समय पर गांव के लोग 24 घंटे या अधिक अवधि तक तमाम तरह के आवागमन पर कड़ी पाबंदी लगाते थे। वह पशुओं की संक्रमित बीमारियों के लिए ही क्वारंटाइन की व्यवस्था थी। इस बार गौशाला और डेयरियों में ज्यादा गायों की मृत्यु हुई, क्योंकि यहां झुंड में पशु हैं और गौशालाओं की गाय कुपोषित और कमजोर होने के कारण बीमारियों को नहीं झेल पाती।

किसान संगठनों के दबाव में महाराष्ट्र सरकार ने ही ऐसे पशुपालकों को आर्थिक सहायता प्रदान करने की घोषणा है। सरकार को हाल में हुई इस तबाही से सबक सीखना चाहिए। एक विशेष पैकेज की अभी जरूरत है। पशु धन के आर्थिक नुकसान के सही आकलन पर श्वेत पत्र जारी हो और प्रभावित पशुपालकों को आर्थिक सहायता दी जाए। साथ ही शत-प्रतिशत पशु धन का वैक्सीनेशन सुनिश्चित हो। सभी पशुओं का मामूली प्रीमियम पर बीमा हो, बैंक के कर्ज़ माफ हों।(मध्यमत)
डिस्‍क्‍लेमर- ये लेखक के निजी विचार हैं। लेख में दी गई किसी भी जानकारी की सत्यता, सटीकता व तथ्यात्मकता के लिए लेखक स्वयं जवाबदेह है। इसके लिए मध्यमत किसी भी तरह से उत्तरदायी नहीं है। यदि लेख पर आपके कोई विचार हों या आपको आपत्ति हो तो हमें जरूर लिखें।
—————-
नोट- मध्यमत में प्रकाशित आलेखों का आप उपयोग कर सकते हैं। आग्रह यही है कि प्रकाशन के दौरान लेखक का नाम और अंत में मध्यमत की क्रेडिट लाइन अवश्य दें और प्रकाशित सामग्री की एक प्रति/लिंक हमें madhyamat@gmail.com  पर प्रेषित कर दें। – संपादक