भोपाल/ राजधानी के प्रतिष्ठित शिक्षा संस्‍थान मानसरोवर ग्लोबल विश्वविद्यालय में पिछले तीन दिन से जारी इंडियन फर्न सोसायटी एवं बॉटेनिकल सर्वे ऑफ इंडिया का अधिवेशन रविवार को संपन्न हुआ। बेहद शानदार शुरुआत के बाद दूसरे और तीसरे दिन देश भर से आए प्रख्यात वैज्ञानिकों ने अपने शोध कार्य प्रस्तुत किए और वनस्पति शास्त्र के क्षेत्र में हो रहे निरंतर नवीन शोध एवं कार्यों पर गहन चर्चा की।

कार्यक्रम के दूसरे दिन विभिन्न वैज्ञानिकों एवं स्टूडेंट्स ने सांस्कृतिक संध्या में रंगारंग प्रस्तुतियां देकर एक वैज्ञानिक के अंदर मौजूद कलाकार को सभी के सामने रखा। औपचारिक समापन समारोह में इंडियन फर्न सोसायटी के सचिव प्रोफेसर खुल्लर ने मानसरोवर ग्लोबल विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर अरुण कुमार पांडेय को इंडियन फर्न सोसायटी की फेलोशिप से सम्मानित किया। उन्‍होंने मानसरोवर ग्लोबल विश्वविद्यालय में ही अगली इंटरनेशनल कांफ्रेंस आयोजित करने की इच्छा जाहिर की।

इसके बाद तीनों दिन प्रस्तुत किए गए पेपर्स, शोध कार्यों और पोस्टर में से श्रेष्‍ठ एवं सर्वमान्य प्रतिभागियों को गोल्ड मेडल्स, सर्टिफिकेट, धनराशि एवं अन्‍य पुरस्‍कार प्रदान किए गए। इस अवसर पर डॉ. श्याम श्रीवास्तव ने डायनासौर काल में पाये जाने वाली दुर्लभ फ़र्न प्रजातियों और जीवाश्म के बारे में बताया।

धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कुलपति प्रोफेसर अरुण कुमार पांडेय ने फेलोशिप के लिए सोसायटी का धन्यवाद  किया और  फेलोशिप में मिली धनराशि सोसाइटी फंड में ही दान कर दी। इंडियन फर्न सोसायटी की ओर से भी अधिवेशन के सफल आयोजन के लिए कुलपति प्रोफेसर अरुण कुमार पांडेय और मानसरोवर ग्लोबल विश्वविद्यालय की चांसलर श्रीमती मंजुला तिवारी, प्रो चांसलर इंजीनियर गौरव तिवारी और आयोजन समिति का धन्यवाद किया। चांसलर श्रीमती मंजुला तिवारी ने सभी वैज्ञानिकों को मानसरोवर परिवार की ओर से सम्मानित किया। प्रो-चांसलर इं. गौरव तिवारी ने कान्फ्रेंस की सफलता के लिए बधाई देते हुए सभी का आभार व्यक्त किया ।

इस तीन दिवसीय आयोजन में देश के कई राज्यों से आये वैज्ञानिकों ने हिस्सा लिया। उद्घाटन कार्यक्रम में मुख्य अतिथि मध्यप्रदेश प्राइवेट यूनिवर्सिटी रेगुलेटरी कमीशन के चैयरमेन डॉक्टर भरत शरण सिंह थे। उनके अलावा इंडियन फ़र्न सोसाइटी के सचिव प्रो. एस.पी. खुल्लर, दिल्ली विश्वविद्यालय के इंडियन फ़र्न सोसाइटी के प्रेसिडेंट प्रोफ़ेसर प्रेम उनियाल, बीरबल सावित्री साहनी फाउंडेशन के सचिव डॉक्टर श्याम चंद्र श्रीवास्तव, बोटैनिकल सर्वे ऑफ़ इंडिया के वैज्ञानिक डॉक्टर एसएस दास विशेष अतिथि के रूप में मौजूद रहे।

उद्घाटन समारोह में बीरबल सावित्री साहनी फाउंडेशन के सचिव डॉक्टर श्याम चंद्र श्रीवास्तव ने प्रो. अरुण कुमार पांडेय को बीरबल साहनी सेंटेनरी मैडल से सम्मानित किया। यह अंतर्राष्ट्रीय सम्मान वनस्पति शास्त्र में उल्लेखनीय कार्य हेतु प्रदान किया जाता है।

मुख्य अतिथि डॉक्टर भरत शरण सिंह ने भारत वर्ष की प्राचीन परम्पराओं और विज्ञान के क्षेत्र में हुए कार्यों की सराहना करते हुए, विदेशियों के कथन को सहज मान लेने के बजाय भारतीय वैज्ञानिकों के शोध एवं कार्यों को समझने की सलाह दी। इस मौके पर अतिथियों ने 2 किताबों का विमोचन भी किया, जिसमे से एक किताब मानसरोवर ग्लोबल विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफ़ेसर अरुण कुमार पांडेय द्वारा लिखित है।