राकेश अचल

नागिन सेंक रही है धूप जरा ठहरो

दमक रहा है उसका रूप जरा ठहरो
*
घर से निकली है अक्षत यौवन लेकर

प्रिय के लिए, साथ में कोरा मन लेकर

मौसम है उसके अनुरूप, जरा ठहरो

नागिन सेंक रही है धूप, जरा ठहरो
*
डस लेगी यदि बिफर गई ये विष कन्या

है स्वभाव से अल्हड़ वैसे ये वन्या

हैं आसक्त हजारों भूप, जरा ठहरो

नागिन सेंक रही है धूप, जरा ठहरो
*
इतराती, बल खाती जब ये चलती है

देख इसे हिरणों की छाती जलती है

चढ़ जाती है हर स्तूप, जरा ठहरो

नागिन सेंक रही है धूप, जरा ठहरो
*
प्रिय से मिलकर बेसुध होकर झूमेगी

विष उड़ेल देगी, अधरों को चूमेगी

विचलित होंगे वापी, कूप जरा ठहरो

नागिन सेंक रही है धूप, जरा ठहरो
*
नागिन सेंक रही है धूप, जरा ठहरो…